मध्य प्रदेश के 14 जिले जिनसे होकर कर्क रेखा (Tropic-of-Cancer) गुजरती है

14 district of madhya pradesh through which tropic of cancer passess

कर्क रेखा उत्तरी गोलार्ध में भूमध्य रेखा‎ के समानान्तर, ग्लोब पर पश्चिम से पूर्व की ओर खींची गई कल्पनिक रेखा हैं जो कि 23.50° से होकर जाती है । यह रेखा पृथ्वी पर उन पांच प्रमुख अक्षांश रेखाओं (भूमध्य रेखा, कर्क रेखा, मकर रेखा, आर्कटिक रेखा, अंटार्कटिक रेखा) में से एक हैं जो पृथ्वी के मानचित्र पर परिलक्षित होती हैं।

यह विश्व के 18 देशों से होकर (पूर्व की ओर बढ़ते हुए) गुज़रती है | भारत में कर्क रेखा 8 राज्यों से होकर जाती है |

भारत का अधिकांश भाग कर्क रेखा के उत्तर में स्थित है। यह उज्जैन शहर से निकलती है। इस कारण ही जयपुर के महाराजा जयसिंह द्वितीय ने यहां वेधशाला बनवाई इसे जंतर मंतर कहते हैं। यह खगोल-शास्त्र के अध्ययन के लिए है। इस कारण ही यह स्थान काल-गणना के लिए एकदम सटीक माना जाता है। यहां से अधिकतर हिन्दू पंचांग निकलते हैं।

मध्य प्रदेश के जिन 14 जिलों कर्क रेखा काटती है वे पश्चिम से पूर्व की ओर बढ़ते क्रम में कुछ इस प्रकार हैं:-

 

युक्ति :
“रउआ रासी भवरा सा, दम जब कटनी उमरा शा”
स्पष्टीकरण :

(1) र- रतलाम
(2) उ- उज्जैन
(3) आ- आगर (पहले शाजापुर था)
(4) रा- राजगढ़
(5) सी- सींहोर
(6) भ- भोपाल
(7) व- विदिशा
(8) रा- रायसेन
(9) सा-सागर
(10) दम- दमोह
(11) जब- जबलपुर
(12) कटनी- कटनी
(13) उमरा- उमरिया
(14) शा- शहडोल

 

 

महत्वपूर्ण-

 

  1. इन 14 जिलों में से एक जिला शाजापुर था लेकिन शाजापुर से आगर जिला अलग हो जाने के कारण अब कर्क रेखा शाजापुर की जगह आगर जिले से गुजरती है ।
  2. माही नदी मध्य प्रदेश से ही निकलती है जो कि पहले राजस्थान फिर गुजरात को होते हुए अरब सागर में गिरती है, ध्यान देने वाली बात ये है कि माही नदी निकलती तो मध्य प्रदेश से है परन्तु यह कर्क रेखा को दो बार गुजरात में काटती है |

 

 

इस पृष्ठ को अपने मित्रों से साझा करे

टिप्पणी करे -