विटामिन के रासायनिक नाम (Chemical Name)

chart of chemical name of vitamins

विटामिन (vitamin) या जीवन सत्व भोजन के अवयव हैं जिनकी सभी जीवों को अल्प मात्रा में आवश्यकता होती है। रासायनिक रूप से ये कार्बनिक यौगिक (कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन तथा गन्धक आदि तत्वों से बने सक्रिय एवं जटिल कार्बनिक यौगिक) होते हैं, उस यौगिक को विटामिन कहा जाता है जो शरीर द्वारा पर्याप्त मात्रा में स्वयं उत्पन्न नहीं किया जा सकता बल्कि भोजन के रूप में लेना आवश्यक हो। इन्हें वृद्धिकारक भी कहते हैं। ये अल्पांश में हमारे शरीर को स्वस्थ एवं निरोग रखने के लिए आवश्यक होते हैं। इनकी कमी से अपूर्णता रोग हो जाते हैं।

युक्ति :
रथ – ‘एक टॉफी’ (जैसे : ग़दर – ‘एक प्रेम कथा’)
स्पष्टीकरण :
S.N.VitaminTrickChemical Name
1Aर-रेटीनाल (Retinal)
2Bथ-थायमिन (Thaymin)
3Cए-एस्कोर्बिक एसिड (Ascarbik acid)
4Dक-कैल्सिफेराल (Kailsiferol)
5Eटा-टोकोफेराल (Tokoferal)
6Kफी-फिलिक्वोनान (Filikwonon)

 

विटमिन B के प्रकार –

 

अब देखते है कि विटमिन B के कितने प्रकार होते हैं और इन्हें किस प्रकार याद रखा जा सकता है –

युक्ति :
थोरा न्यू पैंट पर बसा
स्पष्टीकरण :
S.N.VitaminTrickChemical Name
1B1थो-थाइमिन (Thiamine)
2B2रारैबोफ्लोविन (Riboflavin)
3B3न्यूनिकोटिनैनाइड या नियासिन (Niacin)
4B5पैंटपैंटोथेनिक अम्ल (Pantothenic acid)
5B6परपाईरीडोक्सीन (Pyridoxine)
6B7ब-बायोटिन (Biotin)
7B12सासएनोकोबाल्मिन (Cyanocobalamin)

 

महत्वपूर्ण-

 

1.विटामिन B और C जल में घुलनशील होते हैं| इन्हें आप Bipin Chandra Pal से याद रख सकते हैं –

  • Bipin- विटामिन B
  • Chandra- विटामिन C
  • Pal – प्रोटीन (प्रोटीन भी पानी में घुलनशील है )

 

2. विटमिन B और C के अलावा बाकि ( A, D, K ) वसा में घुलनशील होते हैं |

3. विटमिन की खोज एफ.जी. हाफकिन्स ने की थी, परन्तु इसे विटमिन नाम फुन्क ने 1911 में दिया ।

4. विटमिन ऊतकों में एन्जाइम का निर्माण करते है |

5. यह एक प्रकार का कार्बनिक यौगिक है। इनसे कोई कैलोरी नही प्राप्त होती, परन्तु ये शरीर के उपापचय (Metabolism) में रासायनिक प्रतिक्रियाओं के नियम के लिए अत्यन्त आवश्यक हैं।

6. विटमिन-B काम्प्लेक्स समूह में विटामिन-B3 (पैन्टोथेनिक अम्ल) और विटामिन-B7 (बायोटीन) भी होते है।

7. विटमिन-B12 में कोबाल्ट पाया जाता है।

8. विटमिनों का संश्लेषण हमारे शरीर की कोशिकाओ द्वारा नही हो सकता एवं इसकी पूर्ति विटामिन युक्त भोजन से होती है।
विटमिन-D [सूर्य के प्रकाश में उपस्थित पराबैंगनी किरणों द्वारा त्वचा के कॉलेस्ट्रोल (इर्गेस्टीरॉल) द्वारा संश्लेषण होता है।] और विटमिन-K का संश्लेषण हमारे शरीर में होता है।

9. विटमिन “K” आंत्र में उपस्थित ‘कोलोन’ नामक वैक्टीरिया बनाता है।

10.विभिन्न विटमिन की कमी से होने वाले रोग (याद करने की युक्ति)
 

 

इस पृष्ठ को अपने मित्रों से साझा करे

टिप्पणी करे -