राजस्थान की मीठे पानी की झीले (Fresh water lake)

Fresh water lake of Rajasthan

झील

  1. जल का वह स्थिर भाग है जो चारो तरफ से स्थलखंडों से घिरा होता है |
  2. झीलों की दूसरी विशेषता इनका स्थायित्व है |
  3. सामान्य रूप से झील भूतल के वे विस्तृत गड्ढे हैं जिनमें जल भरा होता है |
  4. झीलों का जल प्रायः स्थिर होता है।

 

राजस्थान में मीठे पानी और खारे पानी की दो प्रकार की झीलें हैं। खारे पानी की झीलों से नमक तैयार किया जाता है। मीठे पानी की झीलों का पानी पीने एंव सिंचाई के काम में आता है। आइये जानते हैं राजस्थान में मीठे पानी की कितनी प्रमुख झीले हैं और इन्हें कैसे याद रखे –

युक्ति :
बापू कौन रसिपी आज फउफा(फूफा) को (बताओ)?
स्पष्टीकरण :
S.N.Trickझील- जिला
1बाबालसमंद- जोधपुर
2पूपुष्कर- अजमेर
3कौकोलायत- बीकानेर
4नक्की- सिरोही
5रा
राजसमंद- राजसमंद
6सी
सिलिसेढ- अलवर
7पी
पिछौला- उदयपुर
8
आनासागर- अजमेर
9
जयसमंद- उदयपुर
10
फतेहसागर- उदयपुर
11
उदयसागर- उदयपुर
12फा
फायसागर- अजमेर
13का
कायलाना- जोधपुर

 

महत्वपूर्ण-

 

 

1. बालसमन्द (जोधपुर)-

यह झील जोधपुर के उत्तर में स्थित है तथा इसका पानी पीने के काम में आता है।

 

2. पुष्कर (अजमेर)-

  • यह अजमेर से ११ किलोमीटर दूर पुष्कर में स्थित हैं|
  • इसके तीनों ओर पहाड़ियाँ है तथा इसमें सालों भर पानी भरा रहता है|
  • वर्षा ॠतु में यहां का प्राकृतिक सौंदर्य अत्यंत मनोहारी एंव आकर्षक लगता है|
  • झील के चारों ओर स्नान घाट बने है।
  • यहां ब्रह्माजी का मंदिर है, यह हिन्दुओं का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है जहाँ हर साल मेला लगता है।

 

3. कोलायत (बीकानेर)-

  • यह झील कोलायत में स्थित है जो बीकानेर से ४८ किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित है|
  • यहां कपिल मुनि का आश्रम है तथा हर वर्ष कार्तिक पूर्णिमा के दिन मेला लगता है।

 

4. नक्की (सिरोही)-

  • यह एक प्राकृतिक झील है तथा माउंट आबू में स्थित है।
  • झील लगभग ३५ मीटर गहरी है, कुल क्षेत्रफल ९ वर्ग किलोमीटर है।
  • यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण पर्यटकों का मुख्य केन्द्र है।

 

5. राजसमन्द (राजसमन्द)-

  • यह उदयपुर से ६४ किलोमीटर दूर कांकरौली स्टेशन के पास स्थित है जो कि ६.५ किलोमीटर लंबी और ३ किलोमीटर चौड़ी है।
  • इस झील का निर्माण १६६२ ई० में उदयपुर के महाराणा राज सिंह के द्वारा कराया गया।
  • झील का पानी पीने एंव सिचाई के काम आता है।
  • इस झील का उत्तरी भाग नौ चौकी के नाम से विख्यात है जहां संगमरमर की २५ शिला लेखों पर मेंवाड़ का इतिहास संस्कृत भाषा में अंकित है।

 

6. सिलीसेढ़ (अलवर)-

  • यह एक प्राकृतिक झील है तथा दिल्ली-जयपुर मार्ग पर अलवर से १२ किलोमीटर दूर पश्चिम में स्थित है|
  • यह झील सुंदर है तथा पर्यटन का मुख्य स्थल है।

 

7. पिछोला (उदयपुर)-

  • यह उदयपुर की सबसे प्रसिद्ध और सुन्दरतम् झील है।
  • इसके बीच में स्थित दो टापूओं पर जगमंदिर और जगनिवास दो सुन्दर महल बने हैं।
  • महलों का प्रतिबिंब झील में पड़ता है।
  • इस झील का निर्माण राणा लाखा के शासन काल में एक बंजारे ने १४वीं शताब्दी के अंत में करवाया था।
  • बाद में इसे उदय सिंह ने इसे ठीक करवाया।
  • यह झील लगभग ७ किलोमीटर चौड़ी है।

 

8. आनासागर (अजमेर)-

  • ११३७ ई० में इस झील का निर्माण अजमेर के जमींदार आना जी के द्वारा कराया गया।
  • यह अजमेर में स्थित है, यह दो पहाड़ियों के बीच में बनाई गई है तथा इसकी परिधि १२ किलोमीटर है।
  • जहाँगीर ने यहाँ एक दौलत बाग बनवाया तथा शाहजहाँ के शासन काल में यहां एक बारादरी का निर्माण हुआ।
  • पूर्णमासी की रात को चांदनी में यह झील एक सुंदर दृश्य उपस्थित करती है।

 

9. जयसमन्द (उदयपुर)-

  • यह मीठे पानी की सबसे बड़ी झील है।
  • यह उदयपुर जिले में स्थित है तथा इसका निर्माण राजा जयसिंह ने १६८५-१६९१ ई० में गोमती नदी पर बाँध बनाकर करवाया था, बाँध ३७५ मीटर लंबा और ३५ मीटर ऊँचा है।
  • झील लगभग १५ किलोमीटर लंबी और ८ किलोमीटर चौड़ी है, जोकि उदयपुर से ५१ किलोमीटर दूर दक्षिण-पूर्व में स्थित है।
  • इसमें करीब ८ टापू हैं जिसमें भील एंव मीणा जाति के लोग रहते हैं।
  • इस झील से श्यामपुर तथा भाट नहरे बनाई गई हैं, इन नहरों की लंबाई क्रमश: ३२४ किलोमीटर और १२५ किलोमीटर है।
  • झील में स्थित बड़े टापू का नाम ‘बाबा का भागड़ा‘ और छोटे टापू का नाम ‘प्यारी‘ है।
  • झील में ६ कलात्मक छतरियाँ एंव प्रसाद बने हुए हैं जो बहुत ही सुन्दर हैं तथा पहाड़ियों से घिरी है, शांत एंव मनोरम वातावरण में इस झील का प्राकृतिक सौंदर्य मनोहरी है जो पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केन्द्र है।

 

10. फतह सागर (उदयपुर)-

  • यह पिछोला झील से १.५ किलोमीटर दूर है, इसका निर्माण राणा फतह सिंह ने कराया था।

 

11. उदय सागर (उदयपुर)-

  • यह उदयपुर से १३ किलोमीटर दूर स्थित है।
  • इस झील का निर्माण उदय सिंह ने कराया था।

 

12. फाई सागर (अज़मेर)-

  • यह भी एक प्राकृतिक झील है और अजमेर में स्थित है|
  • इसका पानी आना सागर में भेज दिया जाता है क्योंकि इसमें वर्ष भर पानी रहता है।

 

13.  जाने राजस्थान की खारे पानी की झीलों को और इनको याद करने की युक्ति|

 

 

इस पृष्ठ को अपने मित्रों से साझा करे

One thought on “राजस्थान की मीठे पानी की झीले (Fresh water lake)

  1. गजब आपकी साइट के बारे में कहने के लिए मेरे पास शब्दों की थोड़ी कमी है।
    लोगों की हेल्प करते रहो।

टिप्पणी करे -